Garhwali Novel Muskyamar by Rakesh Mohan Khantwal

145.00

Garhwali Novel
Title: Muskyamar
Writer: Rakesh Mohan Khantwal Publisher: Samay Sakshay
ISBN No.: 978-93-88165-85-3
Edition: 2020 (First)
No. of Pages: 96
Cover Page: Samay Skshay
Book Designer: Samay Sakshay
Binding: Perfect (Paperback)

Note: Please call before order

In stock

मुस्क्यामार रहस्य और रोमांच से भरपूर एक उपन्यास

यह पुस्तक कुल 96 पेज की पुस्तक है और 95 पेजों में यह उपन्यास 25 अध्याय में रखा गया है। समय साक्ष्य, देहरादून से यह उपन्यास ISBN के साथ प्रकाशित किया गया है। उपन्यास एक सामान्य गांव के जीवन पर आधारित है। हो सकता है ऐसा अपने आसपास में देखा भी होगा यह जो उपन्यास है इसमें कहानी है ऐसे जुड़वा भाइयों की जिनमें एक भाई बहुत ही दुष्ट प्रवृत्ति का है और दूसरा उतना ही शांत स्वभाव का है। एक खुद को बड़ा मानता है जो कि कुछ पल बड़ा है। दोनों भाइयों का नाम गबरु और झबरू है , गबरु जो है वह बड़ा है और झबरु छोटा है। इसी गांव में एक बुजुर्ग महिला रहती है जिन्हें यह बोडी (ताई) कहते हैं गबरु को बिगाड़ने में छामा बोडी का बहुत बड़ा हाथ रहा है। छामा एक पेंशनर है पति उनके स्वर्ग सिधार चुके हैं और उनके स्वर्ग सिधार जाने का कारण स्वयं छामा बोडी है उनको मच्छी खाने का बहुत शौक था। उनके इस शौक ने ही उनके पति को उनसे दूर कर दिया था। जीते जी कभी उन्होंने अपने पति की इज्जत नहीं की लेकिन उनके जाने के बाद अब वो उनके नाम के जागर लगाना पूजा करना आदि करती रहती है।

 

Read More>>

Weight 0.165 g
Dimensions 22 × 14 × 2 cm
Cover Type

Paper Back

Size

22x14x2

Publisher

Samay Sakshay

Pages

96

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

Vendor Information

  • Vendor: khuded
  • Address:
  • No ratings found yet!

Product Enquiry

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy